जनसंख्या के लिहाज से कोरोना के केस यूपी में कम

uttarpradesh
  • अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा यूपी में हॉटस्पॉट की व्यवस्था कि पूरे देश में प्रशंसा
  • प्रदेश में अबतक कुल 448 रोगियों की पुष्टि, इनमें से 254 रोगी तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं
  • 11 अप्रैल सुबह 6 बजे तक कोविड-19 के 15 नए केस दर्ज हुए, इनमें से 8 मामले तबलीगी जमातियों से संबंधित
  • मेरठ में कुछ लोगों ने की पत्थरबाजी, कार्रवाई में 3 लोग गिरफ्तार

लखनऊ। कोरोना वायरस के संबंध में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा है कि जनसंख्या के लिहाज से उत्तर प्रदेश में कोरोना के केस अपेक्षाकृत कम हैं। शनिवार को यहां लोकभवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना को रोकने के लिए की गई हॉटस्पॉट की व्यवस्था की पूरे देश में प्रशंसा हो रही है। हॉटस्पॉट को लेकर जो रणनीति लगभग 4 दिन पहले उत्तर प्रदेश में लागू की है उस रणनीति को अन्य प्रदेशों ने भी लागू किया है और बड़े प्रदेशों में यह रणनीति काफी कारगर सिद्ध हुई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अबतक कुल 448 रोगियों की पुष्टि हुई है। इनमें से 254 रोगी तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं।

अपर प्रमुख सचिव गृह ने कहा कि 15 जनपदों में कुल मिलाकर 125 हॉटस्पॉट हैं। कुल मिलाकर 1,41,110 मकान चिन्हित कर लिए गए हैं। इन हॉटस्पाट की कुल जनसंख्या 8 लाख 95 हजार 21 है। इसमें कुल 329 कोरोना पॉजीटिव के केस हैं। इनमें 2942 कोरिना संदिग्ध थे, जिसमें से 2863 लोगों को क्वारांटाइन कर दिया गया है।

अपर मुख्य सचिव गृह ने कहा कि शनिवार सुबह 6 बजे तक कोविड-19 के 15 नए केस आए हैं। इनमें आगरा के 3, लखनऊ के 3, गाजियाबाद के 3, मेरठ के 4, बुलंदशहर का एक, बदायूं का एक और भदोही का एक केस शामिल है। इन नए 15 मामलों में से 8 मामले तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं। आगरा के तीनों कोरोना पॉज़ीटिव तबलीगी जमात से हैं। गाजियाबाद में एक केस तबलीगी जमात का है। मेरठ में तबलीगी जमात के 3 केस हैं। बुलंदशहर में तबलीगी जमात का एक केस है।

अपर प्रमुख सचिव गृह ने बताया कि 11 अप्रैल को फेक न्यूज़ के कुल 35 मामले सामने आए जिसमें फेसबुक के 10, टिक टॉक का एक, ट्विटर के 22 और व्हाट्सएप के दो मामले हैं। इन मामलों के संबंध में साइबर सेल को सूचित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि 367 एफआईआर दर्ज हो गई हैं और 463 लोगों के खिलाफ जमाखोरी और कालाबाजारी के अंतर्गत कार्रवाई कर दी गई है। प्रदेश में 5387 बैरियर्स स्थापित कर दिए गए हैं जिसके आधार पर प्रदेशभर में चेकिंग की जा रही है।

अपर प्रमुख सचिव गृह ने कहा कि प्रदेश के अन्य स्थानों पर भी कोरोना पॉजीटिव केस हैं। इन क्षेत्रों को भी हमने लाकडाउन किया हुआ है। ऐसे 55 स्थान इंगित किए हैं जहां पर कहीं एक या एक से अधिक मामले हैं, उन स्थानों पर भी कार्रवाई शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि अब तक तबलीगी जमात के 20 जनपदों में करीब 2428 भारतीय नागरिकों को इंगित किया गया है जिसमें से 2231 व्यक्तियों को क्वरेंटाइन किया गया है। तबलीगी जमात के विदेशी नागरिकों को भी क्वारनटाइन में रख कर देखरेख की जा रही है। साथ ही इनके विरुद्ध एफआईआर भी दर्ज की गई है। 259 लोगों के पासपोर्ट भी जब्त किए गए हैं। इनमें 66 लोग नेपाल के नागरिक हैं।

अपर प्रमुख सचिव गृह ने कहा कि मेरठ में कुछ लोगों ने पत्थरबाजी की जिसमें एक अधिकारी को चोट भी पहुंची है। इसमें 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि खाद्यान्न का वितरण तेजी से बढ़ा है। प्रथम चरण के खाद्यान्न का वितरण आज की तारीख तक लगभग लगभग हर जनपद में पूरा हो गया है। पीएम किसान योजना के माध्यम से अब तक 2000 रुपए की दर से किसानों में प्रथम किश्त निर्गत कर दी गई है। अब तक 185 लाख किसानों को 37 सौ करोड़ रुपए की धनराशि हस्तांतरित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि फसली ऋण अदा करने की तिथि 31 मई 2020 तक बढ़ा दी गई है।

अपर प्रमुख सचिव गृह ने कहा कि उद्योगों के माध्यम से 28,933 इकाइयों को 378 करोड रुपए की धनराशि कार्मिकों को वेतन के वितरण के रूप में दी गई है। 4946 इकाइयों को अब चालू कर दिया गया है। काफी हद तक कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान कर लिया गया है। प्रदेश में कुल मिलाकर 10,398 लोगों का टेस्ट 1 दिन में किया गया है जो कि एक रिकॉर्ड है। इनमें से 9950 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि प्रदेश में टेस्टिंग सुविधाओं को बढ़ाया जाए।