अराजक और लोकतंत्र विरोधी है ममता बनर्जी की सरकार : योगी आदित्यनाथ

0
260

: मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने आजादी के बाद का सबसे अच्छा बजट दिया है : लोकतंत्र के नाम पर टीएमसी के साथ मंच साझा करनेवाले नेताओं को आत्ममंथन करना चाहिए : आज पश्चिम बंगाल के बालूरघाट और रायगंज में जनता को संबोधित करने से ममता बनर्जी सरकार द्वारा रोके जाने पर मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ ने दोनों सभाओं को फ़ोन पर संबोधित किया।स्थानीय प्रशासन ने ऊपर के आदेश का हवाला देते हुए हेलीकाप्टर लैंडिंग की अनुमति देने से इंकार कर दिया था।

दोनों सभाओं में पहुँची भारी भीड़ को फ़ोन से संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने प. बंगाल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ममता बनर्जी की सरकार एक अराजक और लोकतंत्र विरोधी सरकार है। उन्होंने कहा कि अपने निर्धारित समय पर आज मुझे इस सभा में आना था, लेकिन ममता बनर्जी सरकार ने घबराकर मुझे रोकने का षड्यंत्र रचा। जिसके कारण मुझे मोदी जी के डिजिटल इंडिया के माध्यम से आपके बीच आया हूं।

योगी जी ने कहा कि टीएमसी सरकार एक लोकतंत्र विरोधी, जनतंत्र विरोधी सरकार है। अराजकता को बढ़ावा देने वाली और राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने वाले तत्वों को बढ़ावा देने वाली सरकार है। यह सरकार बीजेपी से घबरा गई है और इसलिए ममता बनर्जी ने हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष आदरणीय अमित शाह जी के रथयात्रा को भी रोका और अब ये मुझे रोक रहे हैं। लेकिन मैं आपको इस बात के लिए आश्वस्त कर रहा हूं कि भाजपा ममता बनर्जी की लोकतंत्र विरोधी और अराजक सरकार का डट कर मुकाबला करेगी ।

योगी जी ने कहा कि लोकतंत्र में आपसी मतभेद हो सकते हैं, लेकिन आवाज को कैसे दबाया जा सकता है । उन्होंने पूछा कि किस कानून के तहत विरोधी दल के कार्यकर्ताओं को बंधक बनाया जाता है उनकी निर्मम हत्याएं की जाती है। ये नग्न तांडव टीएमसी की सरकार में लगातार पश्चिम बंगाल में देखने को मिल रहा है, यह सब इस बात को साबित करती है कि लोकतंत्र और संविधान में ममता बनर्जी का कोई विश्वास नहीं है।

योगी जी ने आगे कहा कि जिन राजनैतिक दलों के नेता अभी हाल ही लोकतंत्र के नाम पर टीएमसी के मंच पर साथ खड़े थे उन सब को भी आत्ममंथन करना चाहिए। ममता बनर्जी की सरकार लगातार यहां की जन भावनाओं को दबा रही है। शारदीय नवरात्र में लोगों को मां दुर्गा की पूजा से रोकने का प्रयास किया जाता है। कोलकाता हाईकोर्ट में भी पश्चिम बंगाल की सरकार को इस बात के लिए कठघरे में खड़ा करने के लिए मजबूर होना पड़ा था, क्योंकि वहां पर सरकार जन भावनाओं का निरादर कर रही है।

मैं आज आप सब से ये कहने के लिए आया हूं कि जिस मजबूती से बंगाल के बीजेपी कार्यकर्ताओं ने टीएमसी के गुंडों का मुकाबला किया है, वह बेहद प्रशंसनीय है। आप जैसे कार्यकर्ताओं का मैं अभिनंदन करता हूं और आह्वाहन करता हूं कि आप सभी  टीएमसी की गुंडागर्दी के खिलाफ खड़े हों। हम सब आपको आश्वस्त करते हैं कि ये सरकार हमको रोक नहीं पाएगी। आप सभी कार्यकर्ताओं के बल पर बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी।

उन्होंने कहा कि टीएमसी के लोग किसी गलत फहमी के शिकार हो चुके हैं, और ममता बनर्जी को यह जान लेना चाहिए कि लोकतंत्र में शासन-प्रशासन का दुरुपयोग इस रुप में नहीं होता है। लोकतांत्रिक तरीके से चलने वाले आंदोलनों को जिस प्रकार से कुचलने का काम हो रहा है वो अत्यंत निंदनीय है।

पश्चिम बंगाल का प्रशासनिक तबका जिस तरीके से टीएमसी के कार्यकर्ता के रुप में कार्य कर रहा है ये भी स्वीकार्य नहीं है। योगी जी ने कहा कि आपने देखा कैसे पहली फरवरी को आदरणीय मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने आजादी के बाद का सबसे अच्छा बजट देश के सामने प्रस्तुत किया है। ये बजट देश के गांव, गरीब, किसान,नौजवान, महिलाओं और समाज के प्रत्येक तबके के हितों के लिए पूरी तरह समर्पित बजट है। इस बजट के माध्यम से 12 करोड़ किसानों को सीधे सीधे लाभ होने जा रहा है। यह बजट  देश के 10 करोड़ मजदूरों को 60 वर्ष की उम्र के बाद तीन हजार रुपये की मासिक पेंशन देने की व्यवस्था कर रहा है। यह बजट देश के 4 करोड़ से अधिक छोटे व्यपारियों की सुरक्षा की गारंटी देता है और यह बजट इस देश के नौकरी पेशा, मध्यम वर्गीय परिवारों को टैक्स में छूट देकर उन्हें बेहतर भविष्य की ओर ले जा रहा है।

आज इस अवसर पर मैं आप सब का आभार प्रकट करता हूं कि आप सब पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की अलोकतांत्रिक सरकार के खिलाफ जनतंत्र बचाओ रैली के माध्यम से मोर्चा संभाला है। मैं भारतीय जनता पार्टी और उन सभी समर्थकों का अभिनंदन करता हूं जो हर विपरीत परिस्थिति का सामान करते हुए इस अराजक, लोकतंत्र विरोधी, संविधान विरोधी सरकार का डटकर मुकाबला करके इस अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं।

पश्चिम बंगाल हमारे देश की बौद्धिक संपदा का स्थल रहा है, वह चाहे राम कृष्ण मिशन की परंपरा हो या चाहें स्वामी विवेकानंद द्वारा चलाई गई परंपरा, हमारे जनसंघ के प्रथम संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इसी धरती से थे और यही नहीं अभी हाल ही में हमारी भारत की सरकार ने बंगाल के पुत्र और देश के पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिया है। पूरे देश को बंगाल की धरती पर गौरव की अनुभूति होती है लेकिन बंगाल के अंदर आज जो कुछ भी चल रहा है उसे किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए। मैं आप सभी कार्यकर्ताओं का आह्वाहन करुंगा कि आप लोकतांत्रिक तरीके से टीएमसी की गुंडागर्दी वाली सरकार का मुकाबला कीजिये।

मैं बंगाल दोबारा कार्यक्रमों में जरुर आउंगा और आपके साथ इस अराजक, संविधान विरोधी सरकार का डटकर मुकाबला करने के लिए आपके साथ सड़कों पर इस लड़ाई को आगे बढ़ाऊंगा।