‘शमां के साथ दिल जलता रहा’ के जरिये याद किये गये रामप्रसाद लाल  

0
1390
फाइल फोटो

: रचानाओं के जरिये दी गई श्रद्धांजलि : कुशीनगर : पूर्व प्रधानाचार्य और राज्यपाल पुरस्कार से सम्मानित शिक्षाविद रामप्रसाद लाल श्रीवास्तव की प्रथम पुण्यतिथि पर अग्रहार साहित्यिक और सांस्कृतिक संस्था की ओर आनलाइन काव्यगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें उपस्थित कवियों ने अपनी अपनी रचनाओं के माध्यम से दिवंगत श्रीवास्तव को याद किया।

कवि गोष्ठी की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुई, जिसके बाद संस्था के अध्यक्ष अभिमन्यु पांडे ने स्‍व. रामप्रसाद लाल श्रीवास्तव के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला।  श्री पांडे के मुताबिक रामप्रसाद लालजी क्षेत्र में शिक्षा के अग्रदूत रहे, अंग्रेज़ी साहित्य का विद्यार्थी होने के बावजूद हिन्दी साहित्य से उनका गहरा लगाव था।

उनहोंने कहा कि यही वजह रही कि क्षेत्र में जब साहित्य के क्षेत्र में प्रथम संस्था अग्रहार का गठन हुआ तो श्रीवास्तव जी ने उसके संरक्षक का दायित्व बखूबी निभाया। अध्यक्षीय संबोधन के बाद बारी थी कवियों की। कवियों ने अपनी कविताओं के माध्‍यम से लोगों को शिक्षक होने का अर्थ समझाते अपनी बात कही।

कवि आरके भट्ट बावरा ने प्रस्तुत किया, ‘’शमां के साथ दिल जलता रहा, दोनों के साथ कटी रात लिखूं।’’  कवि आकाश महेशपुरी ने शिक्षक के जीवन में महत्व को दिखाती कविता पढ़ी। बिहार के कवि ज्ञानेश्वर गुंजन ने भी काव्यपाठ किया। अग्रहार संस्था के महासचिव डॉ. जितेन्द्र पांडेय जौहर ने गीत प्रस्तुत किया तो वरिष्ठ रचनाकार मदनमोहन पांडेय ने भी अपनी कविता का पाठ किया।

अग्रहार के सचिव अम्बुजेश शुक्ल अम्बुज ने स्वर्गीय रामप्रसाद लाल श्रीवास्तव को समर्पित कविता का पाठ किया। इनके अलावा कवि दिवाकर मिश्र, रेणुका चौहान, नूरफातिमा नूरी, मुजीब सिद्दीकी मौज, मैतुल मस्ताना, संजय मिश्र, ज्योतिष पांडे, भूपेन्द्र राय गंवार, बलराम राय समेत तमाम वरिष्ठ कवियों ने काव्यपाठ किया। कार्यक्रम का सफल संचालन कवि आकाश महेशपुरी ने किया, जबकि अध्यक्षता वरिष्ठ रचनाकार मधुसूदन पांडेय ने की।

ऑनलाइन गोष्ठी में पूर्व प्रधानाचार्य और शिक्षाविद स्वर्गीय रामप्रसाद लाल श्रीवास्तव का परिवार भी जुड़ा, जिसमें प्रमुख रुप से आनन्द प्रकाश श्रीवास्तव, विनय प्रकाश श्रीवास्तव, बृजकिशोर श्रीवास्तव और हिमांशु श्रीवास्तव मौजूद रहे।  पूरे परिवार ने अग्रहार से जुड़े कवियों के प्रति आभार ज्ञापित किया।