बंगले का ऐसा मोह, कि धुरविरोधी योगी से मिले धरतीपुत्र

मनोज श्रीवास्तव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संरक्षक, पूर्व मुख्यमंत्री एवं आज़मगढ़ सांसद मुलायम सिंह यादव बुधवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ से क़रीब आधे घण्टे की मुलाक़ात की। माना जा रहा है कि भेंट के दौरान मुलायम सिंह यादव ने सुप्रीमकोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवास ख़ाली करने का जो आदेश दिया है, उसके संदर्भ में मिले हैं। आवास बचाने के लेकर कुछ रास्‍ता निकालने का सुझाव भी मुलायम सिंह यादव ने दिया है।

बताया जा रहा है कि मुलायम ने ये मुलाकात पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के कहने पर की है। सूत्रों की मानें तो इस मुलाकात के दौरान जो मुख्य बातें रही हैं वह हैं सरकारी आवास 4 ओर 5 विक्रमादित्य मार्ग का आवास, जिसमे अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव रहते हैं। मुलायम-अखिलेश चाहते हैं कि उसको नेता प्रतिपक्ष विधानसभा राम गोबिंद चौधरी और नेता विधान परिषद अहमद हसन के नाम एलाट कर दिया जाये।

यह इस लिए किया जा रहा है ताकि यह बंगला बचा रह जाए। इससे सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन भी हो जाएगा और इन बंगलों पर मुलायम और अखिलेश का कब्जा बरकरार रह जायेगा। अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों का क्या होगा? मुलायम-अखिलेश के बंगले के मोह में यदि भाजपा इस फार्मूले को लागू कर देगी तो विपक्ष की एकता पर टूट होने का खतरा बढ़ेगा। हालांकि ऐसा लगता नहीं है कि योगी आदित्‍यनाथ ऐसा कुछ करके अपनी छवि खराब करेंगे।

इस संदर्भ में यूपी के राजनैतिक मामलों के जानकार वरिष्ठ पत्रकार धीरज त्रिपाठी ने कहा कि धरती पुत्र मुलायम सिंह बंग्ले के मोह में इतनी जल्दी टूट जाएंगे गले नहीं उतरता, लेकिन इस घटना ने फिर साबित किया है कि राजनीति में कुछ भी सम्भव है।